मुगल वंश को खत्म करने के लिए अंग्रेजों ने क्या किया | मुगल वंश का अंत कैसे हुआ

mugal ke akhiri vanshaj


 

मुगल वंश का अंत – मुगल साम्राज्य बाबर (1526) से शुरु होता है और हुमायूं, अकबर से होता हुआ बहादुर शाह जफर द्वितीय (1837) पर आकर खत्म हो जाता है। 

मुगल बादशाहों ने भारत पर 300 साल से भी अधिक राज्य किया। इस दौरान इन्होनें कुछ अच्छे काम भी किए और बुरे भी, अधिकतर मुगल बादशाह अपने कट्टर इस्लामिक सोच के कारण जाने जाते थे। 

इन्होंने पूरे भारत में हिंदुओ का जबरन तलवार की नोक पर धर्मांतरण करवाया। मुगलों ने लाखों हिंदुओ का मुस्लिम धर्म में मतांतरण करवाया और लाखों हिंदुओं को धर्म परिवर्तन ना करवाने पर मार डाला। 

लेकिन इतिहास की खासियत है की वो खुद को दोहराता है। जिस तरह मुगलों ने कई हिंदू राजाओं को मारा और उनके वंश तबाह कर दिए वही हाल मुगल शासकों के साथ भी हुआ। 

अंग्रेजो ने मुगल साम्राज्य के अंतिम वंशजों को नंगा करके लाईन में खड़ा करके गोली मारी थी। 

आईए जानते हैं पूरे घटनाक्रम के बारे में

दिल्ली के खूनी दरवाजा पर खत्म हुआ था अकबर का वंश

1857 के दौरान पूरे भारत देश में अंग्रेजो के विरूद्ध विद्रोह पनप रहा था। उस वक्त के मुगल शासक बहादुर शाह जफर ने भी अंग्रेजो के विरूद्ध विद्रोह का साथ दिया। 

शुरू में विद्रोह सफल रहा लेकिन बाद में अंग्रेज इस विद्रोह को दबाने में सफल रहे। 

मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर द्वितीय ने बचने के लिए अपने बेटों मिर्जा मुगल और खिजर सुलतान और पोतों के साथ हुमायू के मकबरे में छिप गए।

जहां मेजर हडसन ने उनको पकड़ लिया। मेजर हडसन ने उनको बोला की अंग्रेज सरकार आपको मारना नहीं चाहती है अगर आप आत्मसमर्पण कर दे तो, यह सुनकर बहादुर शाह जफर ने आत्म समर्पण कर दिया और उनके बेटों को पकड़ लिया गया। 

लेकिन हडसन कुछ और ही चाह रहा था। जब वह बहादुर शाह जफर के बेटों और पोते को पकड़ के लिए जा रहा था तो बहुत बड़ी भीड़ पीछे चल रही थी। 

कुछ गडबड ना हो इसको देखते हुए हडसन ने बहादुर शाह जफर के लड़को के कपड़े और शरीर पर पड़े हुए सारे जेवर उतरवा लिए। 

उनको पूरी तरह नंगा करने के बाद दिल्ली के खूनी दरवाजे पर तीनों को गोली मार दी। उसके बाद मेजर हडसन वहीं से चिल्लाया की हिंदुओ मैंने तुम लोगों का बदला ले लिया है। 

जिस तरह मुगलों ने लाखों हिंदुओं का कत्ल किया और महिलाओं की इज्जत लूटी वह आज आपके सामने नंगे मरे पड़े हैं। 

मेजर हडसन ने यह इसलिए बोला ताकि आगे कोई विद्रोह ना हो सके और लोगों में डर फैलाने के लिए मुगल वंशजों की नंगी लाश को चांदनी चौक पर फेंक दिया। 

2 दिन तक लाश वहीं पड़ी रही और किसी को लाश उठाने नहीं दिया। इधर बहादुर शाह जफर को कैद करके रंगून (म्यांमार) भेजने की तैयारी शुरू कर दी।

बहादुर शाह जफर ने भूख लगने पर जब खाना मांगा तो हडसन ने उनके बेटों के सर लाकर थाली में परोस दिए और यह देखकर बहादुर शाह जफर बेहोश हो गया। 

जबकि यही काम मुगलों ने बंदा बहादुर के साथ किया था जब औरंगजेब ने बंदा बहादुर के बेटे को उन्हीं के सामने मारकर उसका कलेजा निकालकर बंदा बहादुर के मुँह में डाल दिया था।  

बाद में बहादुर शाह जफर की रंगून में कैद के दौरान मृत्यु हो गई। बाकि बचे हुए अकबर के वंशजों को भी अंग्रेजो ने पकड़ पकड़ कर गोली मार दी।

इस तरह अकबर के वंश का समूल नाश कर दिया गया। जिस खूनी दरवाजे पर मेजर हडसन ने बहादुर शाह जफर के बेटों को मारा था उसी खूनी दरवाजे पर औरगजेब ने अपने बड़े भाई दारा शिकोह को मारकर उसकी गर्दन टांग दी थी। 

इसी खूनी दरवाजे पर अकबर के बेटे जहांगीर ने अकबर के नौ रत्नों में से एक रहे अब्दुल रहीम खाने खाना के बेटों को मारकर लटका दिया था।

 

👇👇👇

भारत के किस राजा ने अपनी बेटी से शादी की थी

 

👇👇👇

किस राजा ने युद्ध पर जाने से पहले अपनी 64 बेगम के सर काट दिए थे

 

👇👇👇

बाबरी मस्जिद कब और किसने बनवाई और बाबरी मस्जिद से पहले क्या था

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top