जूली और प्रोफेसर मटुकनाथ की फेमस प्रेम कहानी का अंत कैसे हुआ, दर्दनाक है कहानी

july aur matuknath ki prem kahani, juli ab kahan hai


 

सन् 2006 में शुरू हुई एक गुरु और शिष्या की प्रेम कहानी उस वक्त घर घर में चर्चा का केंद्र बन गई थी। 

हर न्यूज चैनल और अखबार में सिर्फ इनकी प्रेम कहानी ही छाई हुई थी। बिहार में पटना युनिवर्सिटी के प्रोफेसर मटूकनाथ अपने से 30 साल छोटी जूली से प्रेम कर बैठे। 

इन दोनों की मुलाकात युनिवर्सिटी में एक कैंप के दौरान हुई और वहां पर दोनों ने अपना नंबर एक्सचेंज कर लिया। 

दोनों के बीच बातचीत शुरू हुई और बात प्यार तक पहुंच गई। मटुकनाथ पहले से शादी शुदा थे और करीब 55 साल के थे। 

दोनों की कहानियां पूरे पटना युनिवर्सिटी में फेमस होने लगी। बात घर वालों तक पहुंची और काफी बवाल हुआ। 

मटुकनाथ ने अपना परिवार छोड़ दिया और पटना युनिवर्सिटी से उन्हें निकाल दिया गया। 

बाद में जूली और मटुकनाथ ने शादी ने शादी कर ली। हर जगह पेपर से लेकर न्यूज चैनल में बस इन्हीं के चर्चे थे।

 

मटुकनाथ पहले से ही प्रसिद्ध थे


मटुकनाथ अपनी आशिकी को लेकर बहुत पहले से पटना युनिवर्सिटी में प्रसिद्ध थे। वो बहुत ही रंगीन मिजाज के आदमी थे। 

मटुकनाथ कहते थे की विश्व में एक मात्र लव गुरु ओशो हैं मैंने भी उनसे प्रेरणा ली है और मैं ओशो जैसा बनना चाहता हूं और एक प्रेम का विश्वविद्यालय खोलना चाहता हूं जहां सब छात्र और क्षत्राएं प्रेम को पढ़ सकें।

मटुकनाथ और जूली की प्रेम कहानी के दौरान उनके घर वालों ने मटुकनाथ पर कालिख पोत कर युनिवर्सिटी में घुमाया था।

 

दर्दनाक अंत हुआ इस प्रेम कहानी का


यह बेमेल प्यार ज्यादा दिन तक चल नहीं पाया और शादी के कुछ साल बाद ही ये दोनों अलग हो गए। 

जूली को मटुकनाथ ने छोड़ दिया और जूली इस वक्त वेस्टइंडीज के त्रिनिदाद और टोबैगो में जिंदगी और मौत से झूल रही है। 

वह मानसिक रूप से बीमार हो चुकी है और उसका ईलाज एक मानसिक चिकित्सालय में चल रहा है। 

मटुकनाथ ने अपनी आशिकी के बाद उसको पूछा तक नहीं और ना ही किसी सहायता का आश्वासन दिया। 

हालांकि न्यूज चैनल और पेपर्स में ये खबरें आने पर मटुकनाथ ने बोला की को जूली को वापस इंडिया ले कर आयेंगे और उसका ईलाज करवाएंगे।

हालांकि इसके बाद से जूली का क्या हुआ ये किसी को नहीं पता। सुनने में आया था की जूली वैराग्य ले कर बुद्ध धर्म की अनुयायी बन गई थी और उसका मोह इस ग्रहस्त जीवन से छूट गया था। 

इसी कारण वो वेस्टइंडीज चली गई थी। जूली की सहेली देवी ने ही बताया  था की जूली अब त्रिनाद और टोबैगो में है। 

देवी ने मटुकनाथ पर इल्जाम लगाया था और कहा था की जूली की इस स्तिथि के लिए मटुकनाथ ही जिम्मेदार है और वो सबसे बड़ा ढोंगी है।

मटुकनाथ इस वक्त भागलपुर में अपने गांव में हैं और जूली के बारे में वो बताते हैं की उनकी बात जूली से हुआ करती है और वो अपना स्वास्थ लाभ ले रही है।

इस प्रेम कहानी को देखकर यही लगता है की बेमेल प्यार हमेशा मुसीबत ही लेकर आता है और दोनों परिवारों को उजाड़ देता है।


👇👇👇

HbA1c Test क्या है और कैसे होता है

👆👆👆

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top