विश्व का सबसे शांतिपूर्ण और अनोखा युद्ध जिसमे गोलियों का नहीं शराब का आदान प्रदान होता है Hans Island Whiskey War

 

hans island war, hans island whiskey war

पूरे विश्व में एक एक इंच जमीन के लिए युद्ध होते रहें हैं जिसमे करोड़ों लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी है। चाहे आप भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर को लेकर युद्ध को देख लें या भारत और चीन के बीच तिब्बत, अरूणांचल प्रदेश और लद्दाख के पास का क्षेत्र हो। 
 
इसी तरह विश्व में भी नार्थ कोरिया और साउथ कोरिया के बीच युद्ध या फिर इजराइल और फलिस्तीन के बीच गाजा पट्टी को लेकर होने वाली झड़प। पूरे विश्व में ज्यादातर देशों का अपने पड़ोसियों से जमीन को लेकर युद्ध चला करता है। 
 
इन युद्धों में अब तक ना जानें कितने लोग मारे जा चुके हैं और कई देश तो भूखमरी की हालात तक पहुंच चुके थे या पहूंच जायेंगे। 
 
इन सब बवालों के बीच अगर आपसे कहा जाए एक युद्ध ऐसा भी है जो सन् 1984 से एक छोटे से द्वीप को लेकर चला आ रहा है। 
 
लेकिन ये देश लड़ने की बजाय एक दूसरे देश की सेना के लिए विस्की और शराब की बोतलें छोड़ देते हैं। इस युद्ध में आज तक एक भी जान नहीं गई है। 
 
चौंक गए ना!!!
 
चलिए आपको इस अनोखे युद्ध की पूरी जानकारी देते हैं। यह झगड़ा डेनमार्क और कनाडा के बीच (Hans Island Dispute) सन् 1984 से चल रहा है। 
 
यह विवाद एक निर्जन द्वीप हंस (Hans Island) जो की कैनेडी चैनल (Kennedy Channel) जो कनाडा और ग्रीनलैंड को अलग करता है, के बीच स्थित है।

क्या है युद्ध का तरीका


डेनमार्क और कनाडा दोनों देश इस द्वीप को अपना मानते हैं और इस पर अपना हक दिखाने के लिए अपनी अपनी सेना की एक टुकड़ी इस द्वीप पर भेजते हैं और अपना झण्डा फहराते हैं। 
 
इसका मतलब होता है की विरोधी सेना यह द्वीप छोड़कर चली जाए। डेनमार्क की सेना जब वहां जाती है तो झण्डा फहराने के बाद कनाडा की सेना के लिऐ डेनिश शराब की बोतलें छोड़ कर आते हैं। 
 
इसी तरह जब कनाडा की सेना इस द्वीप पर अपना झंडा फहराती है तो वापस लौटते समय डेनमार्क की सेना के लिए विस्कि की बोतलें छोड़ कर आते हैं। 
 
जब डेनमार्क की सेना डेनिश बीयर की बॉटल छोड़ के आती है तो उसमें लिखा होता है “Welcome To Denmark” और इसी तरह जब कनाडा की सेना जब विस्की की बॉटल छोड़ के आती है तो इसमें लिखा होता है ” Welcome To Canada”.

हैं ना ये विश्व का सबसे अनोखा युद्ध! काश पूरे विश्व में देश इसी तरह लड़ाई करें तो ना जानें कितने सैनिक शहीद होने से बच जायेंगे।
 
 
 
 
 
👇👇👇
 
👆👆👆
 
 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top